Home nation सपा में मलाई खाने वाले नरेश अब भाजपा में

सपा में मलाई खाने वाले नरेश अब भाजपा में

595
0

अग्रवाल ने सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव और उनके भाई रामगोपाल यादव के प्रति भी सम्मान दिखाया लेकिन कहा कि उत्तर प्रदेश में पार्टी का जनाधार कमजोर हुआ है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी प्रमुख अमित शाह की भी प्रशंसा की और दावा किया कि उनके समुदाय के लोग भगवा दल के साथ मजबूती से खड़े हैं।

 

2 अप्रैल को समाप्त हो रहा नरेश का कार्यकाल

राज्यसभा सदस्य नरेश अग्रवाल समाजवादी पार्टी छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए हैं। उनका कार्यकाल दो अप्रैल को खत्म हो रहा है और सपा ने इस बार उनको उम्मीदवार नहीं बनाया है। भाजपा में शामिल होने के मौके पर अग्रवाल ने राज्यसभा में उनके बजाय जया बच्चन को तरजीह देने पर सपा को निशाना बनाते हुए कहा कि पार्टी ने उनकी तुलना फिल्म अभिनेत्री से की है ‘जो फिल्मों में नाचती थी।’ अपने बयानों को लेकर पहले भी विवादों में रहे अग्रवाल के भाजपा में शामिल होने के लिए पार्टी मुख्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन का बाकी पेज 8 पर आयोजन किया गया, जहां उन्होंने यह टिप्पणी की। इस दौरान केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल सहित भाजपा नेता मौजूद थे।

‘नाचने वालों से की गयी मेरी तुलना’

अग्रवाल ने कहा कि मेरी तुलना फिल्मों में नाचने और काम करने वाले लोगों के साथ की गई। इससे मंच पर मौजूद भाजपा नेता असहज हो गए। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने अग्रवाल की टिप्पणी से तुरंत पार्टी को अलग कर लिया और कहा कि उनकी पार्टी सभी क्षेत्रों के लोगों का सम्मान करती है और राजनीति में उनका स्वागत करती है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी इस भाजपा को इस टिप्पणी से अलग करते हुए कहा कि नरेश अग्रवाल का पार्टी में स्वागत है लेकिन जया बच्चन पर टिप्पणी ‘अनुचित और अस्वीकार्य’ है।

सपा संरक्षक के प्रति दिखाया सम्मान

अग्रवाल ने सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव और उनके भाई रामगोपाल यादव के प्रति भी सम्मान दिखाया लेकिन कहा कि उत्तर प्रदेश में पार्टी का जनाधार कमजोर हुआ है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी प्रमुख अमित शाह की भी प्रशंसा की और दावा किया कि उनके समुदाय के लोग भगवा दल के साथ मजबूती से खड़े हैं। अग्रवाल ने यह भी कहा कि राज्यसभा चुनावों में उनका विधायक बेटा भाजपा के पक्ष में मतदान करेगा। राज्यसभा सदस्य के तौर पर अग्रवाल का कार्यकाल दो अप्रैल को खत्म हो रहा है। समाजवादी पार्टी ने जया बच्चन को एक बार फिर राज्यसभा का उम्मीदवार बनाया है। पिछले वर्ष सदन में हिंदू देवी- देवताओं के प्रति उनकी टिप्पणी से विवाद पैदा हो गया था।