Home political news कहर, मौत और बर्बादी का दूसरा नाम है ‘मिराज 2000’

कहर, मौत और बर्बादी का दूसरा नाम है ‘मिराज 2000’

568
0
मिराज 2000
कहर, मौत और बर्बादी का दूसरा नाम है ‘मिराज 2000’

नियंत्रण रेखा पारकर 50 किलोमीटर घुसकर आतंकवादियों के अड्डों को तबाह करने वाला, 200 से ज्यादा आतंकवादियों को मौत की नींद सुला देने वाला और दुनिया को भारत की सैन्य ताकत का अहसास दिलाने वाले ‘मिराज 2000’ लड़ाकू विमान की खूबियां क्या हैं, आइए इसके बारे में जानते हैं।

  • इन विमानों को फ्रांस की कंपनी डसाल्ट एविएशन ने विकिसत किया है। ‘मिराज 2000’ लेजर गाइडेड बम भी गिराने की क्षमता रखता है। इसे 1982 में विकसित किया गया था। भारत की कंपनी हिन्दुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) ने इन विमानों को अपग्रेड किया है। मिराज में जरूरतों के मुताबिक हथियार प्रणाली, सेंसर और इलेक्ट्रॉनिक वारफेयर सिस्टम लगाया गया है।
  • वायुसेना के मिराज-2000 विमानों ने पाकिस्तान में घुसकर आतंकी संगठन जैश ए मुहम्मद के कई ठिकानों पर लेजर गाइडेड बम गिराये हैं जिससे पाकिस्तान के अधिकार वाले कश्मीर से संचालित हो रहे आतंकवादी सगंठनों की कमर टूट गयी है।
  • भारत में पुलवामा आतंकी हमले (Pulwama Terror Attack) के बाद भारत ने पाकिस्तान पर एक और Surgical Strike कर दी है। भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान में घुसकर उसे सबक सिखाया है।
    -इन विमानों (मिराज 2000) को वज्र के रूप में भी जानते हैं। ये मिका मिसाइल से लैस है। मीका मिसाइल हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइल है। इसे हवा और जमीन दोनों से इस्तेमाल किया जा सकता है। यह सिर्फ 2 सेकेंड के अंतराल में फायर करती है। इस मिसाइल का कोई तोड़ नहीं है।
  • डसॉल्ट मिराज 2000 लड़ाकू विमान 29 जून, 1985 में भारतीय वायुसेना की नंबर-7 स्क्वाड्रन में औपचारिक रूप से शामिल किया गया था।
  • ‘मिराज 2000’ ने करगिल युद्ध में दुश्मनों के दांत खट्टे कर दिये थे। अब इसे और अधिक लड़ाकू और ताकतवर बनाया जा चुका है।
  • 1999 में करगिल युद्ध के दौरान ‘मिराज 2000’ से घुसपैठियों और पाकिस्तानी सेना की कम तोड़ दी गयी थी। वायुसेना के पास फिलहाल ‘मिराज 2000’ के 2 बेड़े मौजूद हैं। इनमें से कई विमानों को अपग्रेड किया जा रहा है।
  • अपग्रेड किये जा चुके ‘मिराज 2000’ फ्रांसीसी मीका मिसाइलों से लैस हैं। ये मिसाइले हवा से हवा और जमीन से हवा में हर 2 सेंकेंड में प्रहार कर सकती हैं।
  • ‘मिराज 2000’2336 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से उड़ान भर सकता है। यह प्रति मिनट 125 राउंड गोलियां दाग सकता है। यह 68 मिमी के 18 रॉकेट प्रति मिनट दाग सकता है। इस विमान का वजन 7500 किलोग्राम है। गोला बारूद को लेकर यह 13800 किलोग्राम के साथ उड़ान भर सकता है।

READ ALSO
नक्सल प्रभावित क्षेत्रों से CRPF को क्यों हटा रही है सरकार?